लॉजिक गेट की परिभाषा | प्रकार | प्रयोग क्या है

डिजिटल इलेक्ट्रॉनिक कई प्रकार के लॉजिक गेट उपयोग किए जाते हैं यहां मैं आपको logic gates की जानकारी दूंगा कि लॉजिक गेट क्या है ? ये कितने प्रकार के होते हैं ?
 
logic gates kya hai
 

लॉजिक गेट की परिभाषा ( Logic gates in hindi )

Logic gates ऐसे परिपथ होते है जो किसी लॉजिक ( तर्क ) के आधार पर आउटपुट देते हैं और ये केवल बाइनरी इनपुट (0 और 1) पर ही कार्य करते हैं ।

इन्हे डायोड, ट्रांजिस्टर, वेक्यूम ट्यूब आदि के द्वारा बनाया जाता है

 

लॉजिक गेट कितने प्रकार के होते हैं ?

लॉजिक गेट विभिन्न प्रकार के होते हैं –
 

AND logic gate

इस लॉजिक गेट में जब जब तक सभी इनपुट Maximum (अर्थात 1) नहीं होगे तब आउटपुट भी नहीं मिलेगा (अर्थात 0 रहेगा) सभी इनपुट 1 होने पर ही आउटपुट 1 होगा

 

NOT logic gate

यह इन्वर्टर परिपथ है हम जानते हैं जबतक मेन सप्लाई चालू रहती है तब तक इन्वर्टर की सप्लाई बंद रहती है और मेन सप्लाई बंद होने पर इन्वर्टर सप्लाई चालू हो जाती है उसी प्रकार NOT परिपथ में जबतक इनपुट 1 रहेगा तबतक आउटपुट 0 रहेगा और जब इनपुट 0 होगा तब आउटपुट 1 रहेगा

NOT logic gate
 

OR logic gate

इस लॉजिक गेट में अगर कोई एक इनपुट 1 हो और बाकी इनपुट 0 तो भी आउटपुट 1 ही मिलेगा लेकिन अगर सभी इनपुट 0 हैं तो आउटपुट भी 0 होगा

OR logic gate
 

NAND logic gate

यह लॉजिक गेट NOT और AND गेट को जोड़कर बनाया जाता है

NAND logic gate
 

NOR logic gate

यह लॉजिक गेट NOT और OR गेट को जोड़कर बनाया जाता है

 

NAND और NOR लॉजिक गेट के द्वारा किसी भी अन्य गेट को बनाया जा सकता है इसलिए इन्हे Universal Logic Gates कहते हैं

 

Ex-OR logic gate

यह OR logic gate का ही रूप लेकिन इसमे सभी इनपुट 1 होने पर आउटपुट 0 हो जाता है

Ex-OR

 


 

Ex-NOR logic gate

यह NOR गेट का ही रूप है लेकिन इसमें सभी इनपुट 1 होने पर आउटपुट भी 1 प्राप्त होता है

ExNOR

 

Leave a Comment