बीटेक क्या है? इसके फायदे, फीस सैलरी

जैसा की मैं आपको पहले भी बता चुका हूँ की टेक्निकल फील्ड से जुड़े कोर्स चार प्रकार के होते हैं:

यहां मैं आपको बीटेक कोर्स के बारे में पूरी विस्तृत जानकारी देने वाला हूँ कि बीटेक क्या होता है और इसके क्या फायदे हैं? b.tech full form in hindi

बीटेक क्या होता है?

बीटेक का फुल फॉर्म बैचलर ऑफ़ टेक्नोलॉजी होता है। यह इंजीनियरिंग से जुड़ा स्नातक डिग्री कोर्स है। b.tech की शिक्षण अवधि चार वर्ष होती है। बीटेक कोर्स में विभिन्न प्रकार की ब्रांच होती हैं जैसे: इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग, मैकेनिकल इंजीनियरिंग, सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग, कंप्यूटर साइंस, सिविल इंजीनियरिंग आदि। आप इनमें से अपनी पसंद अनुसार किसी भी ब्रांच में प्रवेश ले सकते हैं।

बीटेक कैसे करें?

बीटेक कोर्स में प्रवेश लेने लिए छात्र को किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12th पास होना जरूरी है वह भी फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ विषय के साथ। इसके अलावा 12th में न्यूनतम 60% मार्क्स होना चाहिए।

अगर आप टॉप लेवल के सरकारी b.tech कॉलेज में प्रवेश लेना चाहते हैं तो इसके लिए आपको JEE के एंट्रेंस एग्जाम में क्वालीफाई करना पड़ेगा जो की थोड़ा कठिन होता है। अगर आप JEE में अच्छे मार्क्स ले आते हैं तो आपको IIT और NIT जैसे उच्च स्तरीय कॉलेज में प्रवेश मिल जायेगा।

बीटेक की फीस कितनी होती है?

सरकारी बीटेक कॉलेज में प्रत्येक साल की फीस लगभग 80 हजार से एक लाख रूपये होती है। जबकि प्राइवेट यूनिवर्सिटी या कॉलेज में यह लगभग 1.5 से 2 लाख प्रतिवर्ष तक होती है।

क्या बीटेक में स्कॉलरशिप मिलती है?

जी हाँ। यदि आप सरकार के छात्रवृत्ति नियमों के अनुसार इसके पात्र हैं तो जरूर मिलेगी।

क्या बिना JEE के बीटेक में प्रवेश लिया जा सकता है?

जी हाँ। कुछ प्राइवेट कॉलेज बिना किसी एंट्रेंस एग्जाम के भी सीधे प्रवेश देते हैं लेकिन वे इसके बदले डोनेशन लेते हैं और उनकी फीस भी सरकारी कॉलेज से अधिक होती है।

बीटेक लेटरल एंट्री क्या है?

अगर कोई छात्र पॉलिटेक्निक डिप्लोमा कोर्स करने के बाद बीटेक करता है तो उसे बिना किसी एंट्रेंस एग्जाम के सीधे ही 2nd year में प्रवेश दिया जाता है। सरकारी कॉलेज में छात्रों के पॉलिटेक्निक में प्राप्त मार्क्स के आधार पर काउंसलिंग द्वारा प्रवेश दिया जाता है।

बीटेक के बाद करियर

जैसा की हम सभी जानते हैं कि हमारा देश निरंतर विकास की ओर अग्रसर है, नई-नई कंपनियां और स्टार्टअप शुरू हो रहे हैं और आद्योगिक क्षेत्र का विस्तार हो रहा है। टेक्नोलॉजी के इस दौर में इंजीनियरों का बहुत बड़ा योगदान है। अगर आप बीटेक इंजीनियरिंग कोर्स कर लेंगे तो आप भी एक इंजीनियर बन जायेंगे और आप भी विकास में अपना योगदान देने में सक्षम हो जायेगे।

कई ऐसी कंपनियां हैं जो छात्रों को बीटेक का अध्ययन पूरा होने से पहले ही जॉब ऑफर कर देती हैं और अच्छे-अच्छे पैकेज भी देतीं हैं।

बीटेक के बाद सैलरी 

अगर मैं यहां कम से कम सैलरी की बात करूं तो भी बीटेक के बाद 30,000 से 40,000 रूपये प्रतिमाह तो पक्के हैं। और अगर आप एक होशियार छात्र हैं तो आपको किसी अच्छी कम्पनी में 70,000 से 80,000 रूपये प्रतिमाह भी मिल सकते हैं।

भारत के टॉप लेवल के IIT कॉलेजों के छात्रों को तो इससे भी ज्यादा बड़े पैकेज मिलते हैं। IIT मद्रास, IIT दिल्ली, IIT कानपुर जैसे देश के टॉप रैंक कॉलेजों में एप्पल, गूगल, ऐमजॉन, माइक्रोसॉफ्ट, इंटेल जैसी बड़ी इंटरनेशनल कंपनियों के कैंपस आते हैं जो 30-40 लाख सालाना तक के पैकेज देते हैं। कभी-कभी तो कुछ खास होनहार स्टूडेंट्स को 1 करोड़ से भी ज्यादा के पैकेज तक दिए जा चुके हैं।

बीटेक के फायदे और नुकसान

बीटेक करने के फायदे

  • यह टेक्निकल फील्ड से जुड़ा एक उच्च स्तरीय कोर्स है इसमें छात्रों को बहुत सारा नॉलेज मिलता है और नई-नई स्किल्स सीखने को मिलती है।
  • बीटेक के बाद बड़ा पद और काफी अच्छी सैलरी मिलती है।
  • बीटेक के बाद करियर के कई रास्ते खुल जाते हैं।
  • बीटेक में इतना ज्ञान दिया जाता है कि छात्र स्वयं की कम्पनी अथवा बिजनेस भी चालू सकते हैं।

b.tech के नुकसान

  • इस शैक्षणिक अवधि किसी अन्य कोर्स की अपेक्षा अधिक होती है।
  • यह काफी खर्चीला कोर्स है।
  • बीटेक की पढ़ाई दूसरे कोर्सों के अपेक्षा कठिन होती है।
  • बीटेक कॉलेज सामन्यतः बड़े शहरों में ही होते है।

आशा करता हूँ कि आपको ये जानकारी पसंद आयी होगी। इसे अपने दोस्तों से भी शेयर करें।

1 thought on “बीटेक क्या है? इसके फायदे, फीस सैलरी”

Leave a Comment