वृत्त क्या है? क्षेत्रफल और परिमाप का सूत्र


ज्यामिति से जुडी विभिन्न आकृतियों में से त्रिभुज और चतुर्भुज के बारे में मैं आपको पहले ही बता चूका हूँ यहां मैं आपको वृत्त के बार में बताने वाला हूँ। इस पोस्ट में, मैं आपको वृत्त की परिभाषा और वृत्त से जुड़े अन्य विषयों के बारे में जानकारी दूंगा।

पोस्ट में ये जानकारी है -

वृत्त किसे कहते हैं?

किसी समतल पर एक स्थिर बिंदु के चारों ओर एक समान नियत दूरी पर स्थित सभी बिंदुओं के समूह से बनी एक घुमावदार बंद आकृति को वृत्त कहते हैं।

वृत्त के विभिन्न भाग होते हैं:

  • केंद्र: समतल पर स्थित, स्थिर बिंदु को केंद्र कहते हैं।
  • त्रिज्या: स्थिर बिंदु (केंद्र) से नियत दूरी पर स्थित सभी बिंदुओं तक की उस नियत दूरी को त्रिज्या कहते हैं।
  • परिधि: बिंदुओं के समूह से बनी घुमावदार रेखा को परिधि कहते हैं।
  • व्यास: परिधि पर स्थित किन्ही दो बिंदुओं को मिलने वाली एक सरल रेखा जो केंद्र से होकर गुजरे, उस रेखा को व्यास कहते हैं। यह त्रिज्या का दोगुना होता है।
  • जीवा: परिधि पर स्थित किन्ही दो बिंदुओं को मिलने वाली एक सरल रेखा जो केंद्र से होकर नहीं गुजरे, उस रेखा को जीवा कहते हैं।
  • चाप: वृत्त की परिधि के किसी एक छोटे भाग को चाप कहते हैं।
  • स्पर्श रेखा: ऐसी सरल रेखा जो वृत्त की परिधि के किसी एक बिंदु मात्र को स्पर्श करे, उसे स्पर्श रेखा कहते हैं।
  • वृत्तखंड: किसी सरल रेखा द्वारा काटे गए वृत्त के भाग को वृत्तखंड कहते हैं।
  • अर्धवृत्त: किसी सरल रेखा को केंद्र से गुजरने पर वह वृत्त को बराबर दो हिस्सों में विभक्त करेगी इससे जो वृत्तखंड प्राप्त होता है उसे अर्धवृत कहते हैं।
  • त्रिज्यखंड: दो त्रिज्याओं और चाप से घिरे हुए क्षेत्र को त्रिज्यखंड कहते हैं।

वृत्त

वृत्त का सूत्र

वृत्त में, त्रिज्या = r, व्यास = d होता है।

वृत्त के विभिन्न सूत्र निम्न हैं:

  • त्रिज्या = व्यास/2
  • व्यास = त्रिज्या  × 2
  • वृत्त का क्षेत्रफल = πr2
  • वृत्त की परिधि = 2πr

नोट: π (पाई)  = 22/7 या 3.14

मैं आशा करता हूँ आपको ये जानकारी पसंद आयी होगी। इस पोस्ट को अपने दोस्तों से भी शेयर करें।

Leave a Comment