श्रेणी और समांतर प्रतिरोध का संयोजन ( Series and Parallel Circuits )


Electrical Circuits आदि में प्रतिरोधकों (Resistors) के संयोजन के लिए एक क्रम स्थापित किया जाता है यह क्रम परिपथ की आवश्यकता के अनुसार निर्धारित होता है ।

 

प्रतिरोधकों का संयोजन मुख्यता तीन प्रकार से किया जाता है –

● श्रेणी क्रम संयोजन ( Series Connection)
● समांतर क्रम संयोजन (Parallel Connection)
● मिश्रित संयोजन (Mixed Connection)

 

यहां मैं आपको इन सभी के बारे में जानकारी दूंगा कि सीरीज कनेक्शन क्या है ? समांतर क्रम संयोजन क्या है ? मिश्रित क्रम संयोजन क्या है ? संयोजन में कुल प्रतिरोध की गणना कैसे की जाती है ?
 
series and parallel circuit
 
 

What is Series and Parallel Circuit

 

श्रेणी संयोजन ( Series Connection ) क्या होता है ?

इस प्रकार के संयोजन में प्रतिरोधकों को एक ही मार्ग में स्थापित किया जाता है जिससे इसमे धारा प्रवाह के लिए केवल एक ही मार्ग होता है ।
जिसके कारण समस्त परिपथ मे धारा का मान समान रहता है परन्तु वोल्टेज का मान प्रत्येक Resistor पर भिन्न-भिन्न रहता है ।
Series Connection of Resistors

 

सीरीज सर्किट मे कुल प्रतिरोध का मान निकालने के लिए निम्न फार्मूला का उपयोग किया जाता है –
R = R1 + R2 + R3

 

समांतर संयोजन ( Parallel Connection ) क्या होता है ?

इस प्रकार के संयोजन मे सभी Resistors पर Voltage का मान एक समान होता है ।
लेकिन धारा का मान प्रत्येक Resistor पर भिन्न-भिन्न रहता है ।
Parallel Connection of Resistors

 

Parallel Circuit मे कुल प्रतिरोध का मान निकालने के लिए निम्न फार्मूला का उपयोग किया जाता है –

1/R = 1/R1 + 1/R2

 

 

मिश्रित क्रम संयोजन ( Mixed Connection ) क्या होता है ?

इस प्रकार के संयोजन में प्रतिरोधकों को श्रेणी तथा समांतर दोनो प्रकार मे संयोजित किया जाता है ।
Series and Parallel circuit of resistance

Leave a Comment